Tag: Poems

Nov 10

Poem – ताकि घर चल सके

30 + उम्र के मित्रो के लिए एक कविता l जरूर पड़े… ताकि घर चल सके जीवन में पैतीस पार का मर्द…….. कैसा होता है ? थोड़ी सी सफेदी कनपटियों के पास, खुल रहा हो जैसे आसमां बारिश के बाद, जिम्मेदारियों के बोझ से झुकते हुए कंधे, जिंदगी की भट्टी में खुद को गलाता हुआ, …

Continue reading

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2014/11/10/poem-%e0%a4%a4%e0%a4%be%e0%a4%95%e0%a4%bf-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%9a%e0%a4%b2-%e0%a4%b8%e0%a4%95%e0%a5%87.htm

Jul 29

Poems – आहिस्ता चल ज़िन्दगी

आहिस्ता चल ज़िन्दगी आहिस्ता चल ज़िन्दगी, अभी कई क़र्ज़ चुकाना बाकी है, कुछ दर्द मिटाना बाकी है, कुछ फ़र्ज़ निभाना बाकी है; रफ्तार में तेरे चलने से कुछ रूठ गए, कुछ छुट गए ; रूठों को मनाना बाकी है, रोतों को हसाना बाकी है ; कुछ हसरतें अभी अधूरी है, कुछ काम भी और ज़रूरी …

Continue reading

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2014/07/29/poems-%e0%a4%86%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%9a%e0%a4%b2-%e0%a5%9b%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%a6%e0%a4%97%e0%a5%80.htm