Tag: Poem

Nov 16

आहिस्ता चल ज़िन्दगी

आहिस्ता चल ज़िन्दगी, अभी कई क़र्ज़ चुकाना बाकी है | कुछ दर्द मिटाना बाकी है, कुछ फ़र्ज़ निभाना बाकी है || रफ्तार में तेरे चलने से कुछ रूठ गए, कुछ छुट गए | रूठों को मनाना बाकी है, रोतो को हसाना बाकी है || कुछ हसरतें अभी अधूरी है, कुछ काम भी और ज़रूरी है …

Continue reading

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2014/11/16/%e0%a4%86%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%9a%e0%a4%b2-%e0%a5%9b%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%a6%e0%a4%97%e0%a5%80.htm

May 31

Barish Ka Ye Mousam

Barish Ka Ye Mousam Barish Ka Ye Mousam Koch Yaad Dilata Hai Kisi Kay Saath Honay Ka Ehsaas Dilata Hai Fiza Bhi Sard Hai Yaadain Bhi Taaza Hai Ye Mousam Kisi Ka Pyaar Dil May Jagata Hai Bheegi Hoye Raatain Khamosh Si Baatain Aisay Main Koch Kaho Tu Her Lafz Madhem Ho Jata Hai Barsat …

Continue reading

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2014/05/31/barish-ka-ye-mousam.htm

Dec 29

||द्रोपदी शस्त्र उठा लो, अब गोविंद ना आयंगे||

द्रोपदी शस्त्र उठा लो, अब गोविंद ना आयंगे छोडो मेहँदी खडक संभालो खुद ही अपना चीर बचा लो द्यूत बिछाये बैठे शकुनि, मस्तक सब बिक जायेंगे सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो, अब गोविंद ना आयेंगे | कब तक आस लगाओगी तुम, बिक़े हुए अखबारों से, कैसी रक्षा मांग रही हो दुशासन दरबारों से स्वयं जो लज्जा …

Continue reading

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2012/12/29/%e0%a4%a6%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%aa%e0%a4%a6%e0%a5%80-%e0%a4%b6%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0-%e0%a4%89%e0%a4%a0%e0%a4%be-%e0%a4%b2%e0%a5%8b-%e0%a4%85%e0%a4%ac-%e0%a4%97.htm