Category: LifeStyle

May 19

जीने का मजा – Zappmania

जीने का मजा ——————- जब थोड़े में मन खुश था तब जीने का मजा ही कुछ और था नहीं थे जब ऐसी और कूलर तब छत पर सोने का मजा ही कुछ और था गर्मी की भरी दोपहर में झरती मटकी का पानी पीने का वो दौर ही कुछ और था रात में छत पर …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2017/05/19/%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%be-zappmania.htm

May 07

Never Neglect the Person You See in Mirror

Never Neglect the Person You See in Mirror Never Neglect the Person You See in Mirror. This is the only person in the world, who has witnessed the entirety of your life. This person has experienced the thick the thin, the highs the lows, the good the bad. There are not too many certainties in …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2017/05/07/never-neglect-person-see-mirror.htm

Jul 15

Poem – तुम्हारे साथ आजकल

​ तुम्हारे साथ आजकल तुम्हारे साथ आजकल, यूँ हर जगह रहता हूँ मैं हद से ज्यादा सोचू तुम्हें, बस यहीं सोचता हूँ मैं पता नहीं हमारे दरमियान, यह कौनसा रिश्ता है लगता है के सालों पुराना, अधूरा कोई किस्सा है तुम्हारी तस्वीरों में मुझे, अपना साया दिखता है महसूस करता है जो यह मन, वहीं …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2016/07/15/%e0%a4%a4%e0%a5%81%e0%a4%ae%e0%a5%8d%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%87-%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%a5-%e0%a4%86%e0%a4%9c%e0%a4%95%e0%a4%b2.htm

Jun 09

आदमी की औकात

।। आदमी की औकात ।। एक माचिस की तिल्ली, एक घी का लोटा, लकड़ियों के ढेर पे कुछ घण्टे में राख.. बस इतनी-सी है !! आदमी की औकात !! एक बूढ़ा बाप शाम को मर गया , अपनी सारी ज़िन्दगी , परिवार के नाम कर गया। कहीं रोने की सुगबुगाहट  , तो कहीं फुसफुसाहट , …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2016/06/09/%e0%a4%86%e0%a4%a6%e0%a4%ae%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%94%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%a4.htm

Dec 27

Poem – शून्य

शून्य पढोगे तो रो पड़ोगे … अपने लिए भी जियें ..! थोड़ा सा वक्त निकालो वरना…………………. ज़िंदगी के 20 वर्ष.. हवा की तरह उड़ जाते हैं…! फिर शुरू होती है….. नौकरी की खोज….! ये नहीं वो, दूर नहीं पास. ऐसा करते 2-3 नौकरीयां छोड़ते पकड़ते…. अंत में एक तय होती है, और ज़िंदगी में थोड़ी …

Continue reading »

Permanent link to this article: http://zappmania.in/2015/12/27/poem-%e0%a4%b6%e0%a5%82%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af.htm